Reading time: 1 minute

जीत कर भी फिर से हारी जिंदगी

जीत कर भी फिर से हारी ज़िंदगी
पूछिए मत क्यूँ गुजारी ज़िंदगी

इक महाजन सबके ऊपर है खड़ा
जिसने हमको दी उधारी ज़िंदगी

चूना-कत्था लग रहा है आये दिन
पान बीड़ी और सुपारी ज़िंदगी

इक तरफ महमूद सा अंदाज़ है
इक तरफ मीना कुमारी ज़िंदगी

हो गई है इस ‘हनी’ से बोर जब
फिर तो बस ‘राहत’ पुकारी ज़िंदगी

चैन की फिर नींद आई क़ब्र में
अपने तन से जब उतारी ज़िंदगी

नज़ीर नज़र

27 Views
Nazir Nazar
Nazir Nazar
26 Posts · 438 Views
You may also like: