.
Skip to content

**** जिस्म छलनी हो गया ****

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

शेर

October 25, 2017

25.10.17 ** रात्रि ** 10.30

जिस्म छलनी हो गया है दिल का अब क्या पता

किस-किस ने अब मुझको है छला अब क्या पता।।

?मधुप बैरागी

25.10.17 ** रात्रि ** 9.51

आजकल ईमानदार होना गुनाह हो गया है

आज गुनहगार फिर से बेगुनाह हो गया है ।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more
*** मेरे पसंदीदा शेर ***
मैं मशगूल था अपने ही ख्यालों में कब मशहूर हो गया क्या पता ।। ?मधुप बैरागी जख़्म भरे जाते नहीं ज़ाम-ए-शराब से नासूर बन जाते... Read more
* अली को मंजूर नहीं मिलना तो क्या *
15.10.17 **रात्रि** 10.11 हो दुनियां मुख़ालिफ़ हमारे तो क्या हम इश्क में जां अपनी दे तो क्या अलीफ हम है एक दूजे के सनम अली... Read more
** आग लगाकर  **
प्यास जगाकर आग लगाकर पूछते हो क्या ज़रा दिलपर अपने हाथ रख धड़कता है क्या क्या पूछते हो दिल अपना पराया हुआ कब अब ना... Read more