गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

जिसे भूल कर भी भुला ना सके हम

जिसे भूल कर भी भुला ना सके हम ,
‘मनोहर’ उसे ना फिर कभी याद आ सके हम ,
जिसे भूल कर भी ….
यूँ बातें बहोत की बिना बात की ,
पर हाल ए दिल अपना बता ना सके हम ,
जिसे भूल कर भी ….
‘मनोहर’ उनको पता अपना बताते भी क्या ,
जो उम्र भर एक ठिकाना बना ना सके हम ,
जिसे भूल कर भी ….
जला डाली खत और तस्वीरें भीं ,

पर य़ादों के घर ना ज़ला सकें हम ,
जिसे भूल कर भी ….
वो होंगे खुदा , कम तो हम भी नही ,
यही सोचकर सर झुका ना सके हम ,
जिसे भूल कर भी ….
जो डरते रहे उनके जंग से उम्र भर ,
वो ‘ मनोहर’ खुद से ही आगे ना जा सकें हम ,
जिसे भूल कर भी ….

लेखक – मनोरंजन कुमार श्रीवास्तव
पता- निकट शीतला माता मंदिर , शितला नगर , ग्राम तथा पोस्ट – बिजनौर , जिला – लखनऊ , उत्तर प्रदेश , भारत , पिन – 226002
सम्पर्क – 8787233718
E-mail – manoranjan1889@gmail.com

3 Likes · 2 Comments · 34 Views
Like
You may also like:
Loading...