.
Skip to content

जिश्म में छूपा दोपहर रखती है

Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)

गज़ल/गीतिका

November 9, 2017

वो होठों में अपने गंगा सा जल रखती है
हर पल जाने क्यों मुझ पे नजर रखती है

गुलसनों की बात उसके सामने क्यो करूँ
वो बदन पर ही फूलो के शजर रखती है

जब जिश्म चदर सा बिछ जाता है उसका
लिहाफ की सिलवट खुद में लहर रखती है

उसकी आँखों में जाने कहाँ खो गया हूँ मैं
वो आँखो में ही छुपा कर समंदर रखती है

जरा गौर से देखना तुम मेरे दोस्तों उसको
तुम्हारी भाभी तो नजरों में खंजर रखती है

तेरे इस बेदाग़ चाँद से चेहरे पे लटकती लट
अपने आप में जहरीला इक अजगर रखती है

जब रुखसार करती हो मेरे इस दिल पर जाँ
लहरों का उमड़ता एक वो समंदर रखती है

मोहबत के खेल में वो अनजान नही है प्यारे
मनमोहन कृष्ण से वो भी कई हुनर रखती है

ऋषभ कड़कती सर्दी से तुझको क्या परेशानी
वो अपने इस जिश्म में छुपा दोपहर रखती है

Author
Rishav Tomar (Radhe)
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है
Recommended Posts
आने - जाने पे वो सबपे  नज़र रखती है
आने - जाने पे वो सबपे नज़र रखती है किसके दिल में है क्या ये भी ख़बर रखती है कैसा माहौल हो वो सबमें ही... Read more
?रखती हूं☣
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?रखती हूं☣ तमाम दायरों से भी तुझे बाहर रखती हूं,,,, तेरी खातिर ही ये झुकने का हुनर रखती हूं,,,, आज तक टूटी हूं पर कभी... Read more
*सब दिल मे दफन रखती है बेटियां*
सराफत,शिद्दत,और नजाकत का फन रखती है बेटियां,, बुरा कहे,भला कहे सब राज दिल मे दफन रखती है बेटियां,, मौसम कोई भी हो बाबुल के आंगन... Read more
कहानी लंबी है पर छोटा  सा किरदार  मैं  भी  रखती हूँ..
कहानी लंबी है पर छोटा सा किरदार मैं भी रखती हूँ ज़माने के साथ चल सकूँ इतनी रफ़्तार मैं भी रखती हूँ नारी हूँ मैं... Read more