.
Skip to content

जिम्मेदारी

राजेन्द्र कुशवाहा

राजेन्द्र कुशवाहा

शेर

February 28, 2017

कदम ये चलते चलते रुक जाते हैं।
जिम्मेदारीयो का बोझ उठाते उठाते थक जाते हैं।
गुजर जाता है जब आँखों से शैलाब आसुओ का,
रंगीन नजारे नजर मे तब आते हैं।

Author
राजेन्द्र कुशवाहा
DOB - 12/07/1996 पता - मो.पो. - चीचली, जिला - नरसिंहपुर, तहसील - गाडरवारा, म. प्र. मोबाइल न. 7389035257 करना वहीं राजेन्द्र जो दुनिया को दिखाई दे। स्वरो को करना बुलंद इतने की लाखों मे सुनाई दे।
Recommended Posts
कुकृत्य
"कुकृत्य" """""""""""""" चौराहों से उठाते हैं.......... कभी रस्ते चलते उठाते है ! हद कर जाते वहशी-दरिंदे जब बच्ची को घर से उठाते हैं !! काम-वासना... Read more
कुकृत्य
"कुकृत्य" """""""""""""" चौराहों से उठाते हैं.......... कभी रस्ते चलते उठाते है ! हद कर जाते वहशी-दरिंदे जब बच्ची को घर से उठाते हैं !! काम-वासना... Read more
आगाज़ ....
आगाज़ बदल जाते हैं अंज़ाम बदल .जाते हैं वक्त के साथ लोगों के निज़ाम बदल जाते हैं डरने लगी हयात जब अन्जाम के .ख्याल से... Read more
भूख
पेट की अँतरियों पर जब बल पर जाता है रेगिस्तान की सूखी रेत की तरह जब होंठ सूख जाते है चलते चलते जब पैरों में... Read more