31.5k Members 51.9k Posts

जिन्दगी ऐ जिन्दगी

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसी कयामत लाई है
दोस्तों के नाम की ढेरों शिकायत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी तेरा अलग ही फ़लसफा
ख़्वाब के ही दरमियाँ तू क्यों हकीकत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी हर बार मै ही क्यों मरुँ
दुश्मनों की बस्तियों में क्यों शराफ़त लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसा सितम है ढा रही
मिल चुकी हमको सजा तू अब जमानत लाई है।

विवेक प्रजापति ‘विवेक’

40 Views
विवेक प्रजापति 'विवेक'
विवेक प्रजापति 'विवेक'
5 Posts · 89 Views
इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन, काशीपुर (उत्तराखण्ड) में कार्यरत हूँ। छन्द बन्धन में बंधी कवितायेँ और बहर...
You may also like: