.
Skip to content

जिन्दगी ऐ जिन्दगी

विवेक प्रजापति 'विवेक'

विवेक प्रजापति 'विवेक'

गज़ल/गीतिका

July 31, 2016

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसी कयामत लाई है
दोस्तों के नाम की ढेरों शिकायत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी तेरा अलग ही फ़लसफा
ख़्वाब के ही दरमियाँ तू क्यों हकीकत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी हर बार मै ही क्यों मरुँ
दुश्मनों की बस्तियों में क्यों शराफ़त लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसा सितम है ढा रही
मिल चुकी हमको सजा तू अब जमानत लाई है।

विवेक प्रजापति ‘विवेक’

Author
विवेक प्रजापति 'विवेक'
इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन, काशीपुर (उत्तराखण्ड) में कार्यरत हूँ। छन्द बन्धन में बंधी कवितायेँ और बहर से सजी गजलें लिखने का शौक है। कविता मेरा जीवन है.....मै जब भी परेशां होता हूँ या खुश होता हूँ तो कविता लिख देता हूँ।... Read more
Recommended Posts
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी को न समझ सकी ज़िन्दगी । बस इस तरह कटती रही ज़िन्दगी ।। करती रही वादे बार बार ज़िन्दगी । अनसुलझी सी रही फिर... Read more
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी बता तू क्यों मुझसे इस कदर खफा खफा सी है, क्या हुआ है ऐसा मुझसे जो लगती मुझको तू बेवफा सी है,, मिले... Read more
ऐ ज़िन्दगी तू कड़वी थी हम फ़िर भी पी गए
कुछ ज़ख़्म वक़्त ने भरे कुछ यूंही सी गए ऐ ज़िन्दगी तू कड़वी थी हम फ़िर भी पी गए " जिनको समझते आये ये रिश्ते... Read more
ऐ जिन्दगी! तुने कितना कुछ सीखा दिया
????? ऐ जिन्दगी , तुने कितना कुछ सीखा दिया। और बहुत कुछ समझना, सीखना अभी बाॅकी है। पूरी जिन्दगी एक किताब है। जिसका कुछ पन्ना... Read more