.
Skip to content

जिन्दगीं में और आफत अब न हो

बसंत कुमार शर्मा

बसंत कुमार शर्मा

गज़ल/गीतिका

March 16, 2017

हो चुकी जो भी सियासत अब न हो
मुल्क से मेरे बगावत अब न हो

आपको सौंपा है’ दिल अनमोल ये
इस अमानत में खयानत अब न हो

हमसे’ पीकर दूध हमको ही डसें
ऐसे’ साँपों की हिफाजत अब न हो

हम मरें जिन्दा रहें कुछ गम नहीं
गीदड़ों की बादशाहत अब न हो

जो लड़ा आपस में’ दे हमको यहाँ
धर्म की ऐसी तिजारत अब न हो

बचपने से पचपने तक सब सहीं
जिन्दगीं में और आफत अब न हो

Author
बसंत कुमार शर्मा
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन
Recommended Posts
राह अब आसाँ नही साहिल के थपेड़ों में
मुक्तक........ रतजगा करना अब उनकी आदत में है हमको सताना उनकी फ़ितरत में है लौट चले हम अब अपनी राह को अब उनकी चाह में... Read more
हमको लड़ना होगा---कविता---  डी. के. निवातियाँ
हमको लड़ना होगा …….. बिगड़े हुए हालातो से डटकर हमको लड़ना होगा समझ के वक़्त की चाल अब हमको चलना होगा !! कब तक बहेगा... Read more
अब जाकर मुझे ये तन्हाई मिली है
अब जाकर मुझे ये तन्हाई मिली है। आखिर मुझे अपनी मेहनत की पाई पाई मिली है, अब जाकर मुझे ये तन्हाई मिली है। अब जाकर... Read more
ग़ज़ल
एक नेता ने कहा है, आएंगे अब दिन अच्छे । प्यार के गीत ही गाएंगे, अब दिन अच्छे ।। अब न खाएगा कोई दर-ब-दर की... Read more