जिंदगी

ज़िन्दगी को यू ही बेकार मत बनाइए ,
अपने ग़म को औरों को मत सुनाइए ।

है यहाँ सब अपने मतलब के ही यार
आप भी अब थोड़ा मतलबी बन जाइए ।

आँखों में चुभ रहे है किसी के आजकल
ऐसा है तो हमसे नजर नही मिलाइए ।

इन भागदौड़ में थक गए होंगे शायद
मेरे ही घर आकर थोड़ा ठहर जाइए।

मुझे समझ सके तो समझ ले जल्दी
इस तरह ये आईना नही दिखाइए ।

मारने के और तरीक़े आते नही क्या
इस तरह ज़हर हाथों से मत पिलाइये ।

इश्क़ में मशगूल है हम अभी थोड़ा
नींदों से अभी हमें मत जगाइए।

हम पुराने हो गए है अब या पसंद नही ,
ऐसा कीजिये बाज़ार से नया खरीद लाइए।

पाग़ल, दीवाना ,आशिक ये क्या है
हम ‘हसीब’ है हमें वही बुलाइए ।

-हसीब अनवर

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 87

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share