.
Skip to content

जिंदगी

जगदीश लववंशी

जगदीश लववंशी "जेपीएल"

कविता

March 19, 2017

जिंदगी धूप भी हैं,
जिंदगी छावं भी हैं,
खुशियों का मेला हैं,
कभी विदाई की बेला हैं,

बहुत यहाँ रस्मे हैं,
बहुत यहाँ कसमे हैं,
कोई नहीं यहाँ कम हैं,
सब पर भारी गम हैं,

व्याकुल करती हिचकियां हैं,
अब सुनाई देती सिसकियां हैं,
कभी चलती खुशी की लहर हैं
कभी दुःखो का टूटता कहर हैं,

यही जिंदगी हैं,
यही सादगी हैं,
।।जेपीएल।।।

Author
जगदीश लववंशी
J P LOVEWANSHI, MA(HISTORY) ,MA (HINDI) & MSC (MATHS) "कविता लिखना और लिखते लिखते उसी में खो जाना , शाम ,सुबह और निशा , चाँद , सूरज और तारे सभी को कविता में ही खोजना तब मन में असीम शांति... Read more
Recommended Posts
**** जिंदगी जिंदगी होती है ****
जिंदगी जिंदगी होती है दौलत तो एक खिलौना है कभी हम खेलते हैं उससे और कभी वो खेलती है हमसे फर्क इतना है दौलत बेजूबां... Read more
जिंदगी
1. जिंदगी, मुश्किल ही सही पर, मजे़दार बहुत है ! 2. जिंदगी, तुम वो तो नहीं ? जो पहले मिली थी कहीं, 3. जिंदगी, कभी... Read more
जिंदगी
बहृ-२१२ २१२ २१२ तुम गये जिंदगी थम गयी, ढूंढते ही रहे जिंदगी। जिंदगी हादसा बन गयी, पर हमको ना मिली वोे कभी। मिलकर तुमसे यूं... Read more
मिलता नही कभी भी, जिंदगी में कुछ मुकम्मल..
मिलता नही कभी भी, जिंदगी में कुछ मुकम्मल, कभी पाते भी हो, तो बहुत कुछ गवांकर सहज नहीं हैं मेहनत का फल चुटकी में मिल... Read more