Skip to content

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

vivek saxena

vivek saxena

गीत

March 13, 2017

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो
जीत की उड़े फुहार भीगते चलो

कोई गलती ऐसी नहीं जिसका ना हल
सही रास्ते को चुन उस पे निकल
दुनिया से डरने का काम नहीं है
रख हौसला औ मजबूत आत्म बल
इसी के सहारे जंग जीतते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो।

बिना सीखे जिंदगी का हल नहीं है
हारने वालों का कोई कल नहीं है
वे तो जिंदा लाश के समान हैं यहाँ
जिनके पास स्वाभिमानी जल नहीं है
जीत की पड़े फुहार भीगते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो।

गलतियों के डर से ना काम छोड़िए
कुछ ध्यान इस बात पर मोड़िये
लगन व् मेहनत के साथ बढ़कर
मुश्किलों की हर दीवार तोड़िए
सफलता की नई परिभाषा लिखकर
भीड़ से अलग आप दीखते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

Author
vivek saxena
Recommended Posts
चलो मोड़ दो एक बार फ़िर मेरी ज़िंदगी के गीले पन्नों को बहुत कुछ सोख रखा है इसने कुछ ख्वाहिशें, कुछ हकीकत निचोड़ना मुमकिन नहीं... Read more
जीत कर भी फिर से हारी जिंदगी
जीत कर भी फिर से हारी ज़िंदगी पूछिए मत क्यूँ गुजारी ज़िंदगी इक महाजन सबके ऊपर है खड़ा जिसने हमको दी उधारी ज़िंदगी चूना-कत्था लग... Read more
तेरे शहर मे गुज़ारी थी मैने एक जिंदगी
तेरे शहर मे गुज़ारी थी मैने एक जिंदगी पर कैसे कह दूं हमारी थी एक जिंदगी || जमाने से जहाँ मेने कई जंग जीत ली... Read more
तम से लड़ी है जिंदगी
मौत है निष्ठूर निर्मम तो कड़ी है जिंदगी जो ख़ुशी ही बाँटती हो तो भली है जिंदगी लोग जीने के लिए हर रोज मरते जा... Read more