गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .

यूँ ना खेला करो दिल के ज़ज्बात से .
जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .
रोज़ मिलते रहे सिर्फ मिलते रहे .
अब तो जी भर गया इस मुलाक़ात से .
ख्वाब में आता हँसता लिपटता सनम .
हो गई आशनाई हमें रात से .
गा रहा था ये दिल हंस रही थी नज़र .
क्या पता आँख भर आई किस बात से .
फन को मापतपुरी पूछता कौन है .
पूछे जाते यहाँ लोग अवकात से .
———–सतीश मापतपुरी

6 Comments · 49 Views
Like
21 Posts · 1k Views
You may also like:
Loading...