जिंदगी चंद पलों का मेहमान होता है

ये जीवन किसी का भी,
बस चंद पलों का मेहमान होता है ।
फिर भी किसी – किसी को, ना जाने क्यों,
खुद पर बहुत ज्यादा अभिमान होता है ।।

शाखाएँ टूट जाती है,
जड़ से उखड़ जाती है ।
उन बड़े – बड़े वृक्षों की भी,
जब थोड़े हवा के झोकों में ।।

तो सोचो, गर आँधी और सुनामी आ जाये,
या फिर ज्वालामुखी फट जाए ।
तो क्या बचेगा तुम्हारे और हमारे,
अपने इस जीवन में ।।

कवि – मनमोहन कृष्ण
समय – 03:23 (सुबह)
तारीख – 13/01/2021
मोबाईल – 9065388391
पता – बिहटा, पटना, (बिहार) – 801103

3 Likes · 4 Comments · 22 Views
I am National President of Bhartiya Manavta Party (BMP) and I am also Poet. My...
You may also like: