.
Skip to content

जिंदगी क्या है….

Dr Meenaxi Kaushik

Dr Meenaxi Kaushik

कविता

February 4, 2017

******जिंदगी क्या है*******

अपनों का प्यार है जिंदगी ,
सपनों का संसार है जिंदगी।

थोडी खुशियां थोडे गम,
मिला जुला व्यवहार है जिंदगी।

मां का आंचल है ,
पिता का प्यार है जिंदगी।

भाई का दुलार है ,
बहना का लगाव है जिंदगी।

पि्रयतम का साथ है
प्यार का सम्मान है जिंदगी ।

गर गैरों को अपना बना लो,
स्वर्ग का आभास है जिंदगी ।

किसी के काम गर आओ
मानवता का मान है जिंदगी ।।

डा मीनाक्षी कौशिक रोहतक

Author
Dr Meenaxi Kaushik
मांगा नही खुदा से ज्यादा बस इतना चाहती हूँ, करके कर्म कुछ अच्छे सबके दिलों मे रहना चाहती हूँl ईश वन्दना जन सेवा कर जीवन बिताना चाहती हूँ, हर पल हर चेहरे पर मुस्कुराहट लाना चाहती हूँ ||
Recommended Posts
ग़ज़ल (अपनी जिंदगी)
ग़ज़ल (अपनी जिंदगी) अपनी जिंदगी गुजारी है ख्बाबों के ही सायें में ख्बाबों में तो अरमानों के जाने कितने मेले हैं भुला पायेंगें कैसे हम... Read more
==* बहोत छोटी है उम्र जिंदगी की *==
बहोत छोटी है उम्र जिंदगी की कशमकश भरी राह जिंदगी की भर आती है आँखे याद कर कुछ छूट जाती है सौगात जिंदगी की है... Read more
〽आते है जिंदगी में〽
*〽आते है जिंदगी में〽* कुछ बदलकर आते है जिंदगी में,, कुछ सम्भलकर आते है जिंदगी में.. हर कोई शख्स कहा समझ पाता है,, कुछ निकलकर... Read more
**** जिंदगी जिंदगी होती है ****
जिंदगी जिंदगी होती है दौलत तो एक खिलौना है कभी हम खेलते हैं उससे और कभी वो खेलती है हमसे फर्क इतना है दौलत बेजूबां... Read more