.
Skip to content

जिंदगी किस्सा किसी के प्यार का

संदीप शर्मा

संदीप शर्मा "माही"

गज़ल/गीतिका

March 22, 2017

एक गजल

जिंदगी किस्सा किसी के प्यार का
अक्स है वो भी किसी किरदार का

शख्सियत कुछ भी नहीं मेरी यहाँ
आदतन इक शौक है तकरार का

ख्वाहिशो की चाह में है दर-बदर
यह फ़साना है किसी जरदार का

आज फिर वो शख्स मुझको है दिखा
जो तसव्वुर था दिले बेजार का

शोखियाँ उसकी नज़र में क्या कहें
हाल दिलकश है दिले दिलदार का

संदीप शर्मा “कुमार”

Author
Recommended Posts
ग़ज़ल ( जिंदगी जिंदगी)
ग़ज़ल ( जिंदगी जिंदगी) तुझे पा लिया है जग पा लिया है अब दिल में समाने लगी जिंदगी है कभी गर्दिशों की कहानी लगी थी... Read more
गजल ....
वक्त ......... दिया दर्द वो, पर प्यार बेहिसाब माँगता है। दिया नहीं कभी कुछ, पर हिसाब माँगता है। . भरोसे को भी उसपर भरोसा करने... Read more
ग़ज़ल (अपनी जिंदगी)
ग़ज़ल (अपनी जिंदगी) अपनी जिंदगी गुजारी है ख्बाबों के ही सायें में ख्बाबों में तो अरमानों के जाने कितने मेले हैं भुला पायेंगें कैसे हम... Read more
ग़ज़ल ..'मै मिलूंगा तुझे.... अज़नबी की तरह..'
===*====*========*====*=* ज़िंदगी में तड़प .. तिश्नगी की तरह मौत से मिलन हो.. ज़िंदगी की तरह आएगा ख्वाब फिर से.. यही सोचकर आँख मूंदी रही...... तीरगी... Read more