कविता · Reading time: 1 minute

जिंदगी का अनुभव कहता है ___ कविता

जिंदगी का अनुभव कहता है _
कम बोलो _अच्छा बोलो।
किसी की जिंदगी में कभी —
जहर मत घोलो।।
अपने अंतकरण में —
अपने आप को तोलो।।
निकले वाणी से स्वर ध्वनि।
सुनने वालों के लिए मिठास घोलों।।
मिलते है कई उकसाने वाले,
शांति में अशांति घोलने वाले,
ऐसे लोगो से कभी न बोलो।।
राजेश व्यास अनुनय

3 Likes · 6 Comments · 28 Views
Like
Author
734 Posts · 38.9k Views
रग रग में मानवता बहती। हरदम मुझसे कहती रहती। दे जाऊं कुछ और ,जमाने तुझको, काव्य धारा मेरी ,ऐसी बहती ।। राजेश व्यास "अनुनय"
You may also like:
Loading...