जिंदगी और मौत । ?

कभी जिंदगी पे मन सोचे,
कभी मौत पे मन सोचे।
है दिवाने दोनो के हम,
कुछ के ज्यादा कुछ के है कम ।
जिंदगी है कुछ इतनी प्यारी,
हो जाऊँ मैं वारी वारी ।
मौत से है एक ऐसा नाता,
उसको कोई भी ना ठुकराता ।
मुझे है सबकी जिंदगी प्यारी,
हँसकर कर ले जिंदगी कि सवारी ।
जिंदगी है मेरी इसमे घूम लूंगी,
मौत जब आएगी उसे मैं चूम लूंगी।

मंचन कुमारी। ( Shandilya Manchan “मन” )
25 / 05 / 2016 ?

Like Comment 0
Views 110

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share