Skip to content

*जिंदगी एक जंग*

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

June 11, 2017

हर किसी को नहीं मिलता साथ अपनों का ,
जंग जिंदगी की अकेले ही लड़नी पड़ती है ।
कोई साथ नहीं देता मुश्किल में दोस्तों ,
हर लड़ाई अपने दम पर ही जीतनी पड़ती है ।।

कमजोर दिल जंग नहीं जीता करते ,
दिल को अपने फौलाद बनाना पड़ता है ।
जिंदगी एक जंग है तो जीतकर दिखाएंगे ,
हर मुश्किल से लड़ने को तैयार बनाना पड़ता है ।।

कमजोरी को अपनी ताकत बनाना पड़ता है ,
दर्द को अपने हथियार बनाना पड़ता है ।
जंग चाहे जितनी भी बड़ी हो दोस्तों ,
खुद को साबित करके दिखाना पड़ता है ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
**कामयाबी**
यूँ ही मिलती नहीं मुफ़्त में कामयाबी ! एक जुनूँ सा दिल में जगाना पड़ता है ! लाख अँधेरे हों चाहे राह में तो क्या... Read more
* सफर जिंदगी का *
Neelam Ji कविता Jun 20, 2017
आसां नहीं सफर जिंदगी का हर पल इम्तेहाँ होता है । दिल जान लगा दे जो अपनी वही इंसान कामयाब होता है । सफर ये... Read more
माँ की अभिलाषा
लाल तू भी काम आजा वीरता की जंग में। नाम तू अपना लिखा दे भारती की जंग में। ज़िंदगी तो मातृ-भू की नेमतों की देन... Read more
इम्तेहान
जिंदगी की जंग में हर कदम हर मोड़ पर इम्तेहान होता हैं ! तब जाकर किसी शख्स का सपना साकार होता हैं !! यु ही... Read more