.
Skip to content

* जिंदगी अगर शायरी होती *

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

मुक्तक

January 4, 2017

जिंदगी अगर शायरी होती

ना तुम मुझसे यूं दूर होती

अहसास हरदम रहता यूं

जिंदगी मजबूर ना होती

कहते रात को फलसफे

दिन फिर रात ना होती

अगर वक्त रहते मिलते

हिज्र की रात ना होती

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
जिंदगी
ये मासूमियत यूं ही ढल रही हैं, जिंदगी में तन्हाई यूं खल रही हैं, हों अगर कोई हमें चाहने वाला, तो आ जाओं रूह जल... Read more
*जिंदगी* (शायरी)
Neelam Ji शेर Jul 27, 2017
खूबसूरत है जिंदगी खूबसूरत ये डगर , मगर बिन साथी के कटता नहीं सफर । जन्नत से सुंदर हो जाती है ये दुनिया , मिल... Read more
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more
जख़्म सीने में जब उभरते हैं
राह कांटों की फिर भी चलते हैं जिंदगी के सफर यूं कटते हैं ?? दिल के जज़्बात कब संभलते हैं आइने की तरह -----बिखरते हैं... Read more