" -------------------------------------------जाल मस्त है बुनिया " !!

जिसको गुरु बनाओ ठग ले , लगती है ठग दुनिया !
ठगने को बेताब लगे सब , भरे पड़े हैं गुनिया !!

सरलचित्त होना कमजोरी , सम्मोहन ले डूबे !!
बाबा नेता और फरेबी , पकड़ा दे झुनझुनिया !!

रौब दाब वैभव चलता है , फिर वाणी का जलवा !
आसपास खुशबू का डेरा , जाल मस्त है बुनिया !!

जमघट लगते नेताओं के , जाल सियासी बुनते !
वोट यहां भी गये हाथ से , भक्त बने टुनटुनिया !!

लीलाओं का दौर रचाते , अपनी माया बुनते !
और यहां के इंद्रजाल में , फंस जाती हैं मुनिया !!

भक्तों की आंखों पर पट्टी , बांध रखें वे ऐसी !
कहा गुरु का लांघ सके ना , राह एसी दे चुनिया !!

नेता चुनना आसां है पर , सरल नहीं गुरु जान !
अधे कुएँ में गोते खाकर , भटक रही है दुनिया !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 133

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share