23.7k Members 49.9k Posts

जान बेजान थी मुस्कुराने लगी ।

? सुप्रभात मित्रों ?
एक मुक्तक में प्रकृति चित्रण
??????????????
ओस कणिका गिरी , गुनगुनाने लगी ।

गुनगुनी धुप में , खिलखिलाने लगी ।

अधखिली थी कली पा प्रकृति की छुअन ,

जान बेजान थी , मुस्कुराने लगी ।
??????????????

? वीर पटेल ?

Like Comment 0
Views 25

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Kavi DrPatel
Kavi DrPatel
25 Posts · 1.6k Views
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता...