जाने किस दिन हो पायेगा भ्रष्टों का अवसान

जाने किस दिन हो पायेगा भ्रष्टों का अवसान
■■■■■■■■■■■■■ ■■■
ये चाहें तो नाहक़ में ही लड़ जाएं इंसान
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
झूठे सपने लाख दिखाते
फिर जनता को राख दिखाते
भारत माता रोती रहती
ये सब अपनी साख दिखाते
लूट लूट के खाली कर दी धरती है वीरान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
ये जीतेंगे, कब हारे हैं?
तिकड़म से बाजी मारे हैं
सब चाहें भूखे मर जाएं
इनके तो वारे-न्यारे हैं
लेकर हमसे वोट हमें ही दिखलाते हैं शान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
संसद की तोड़ी मर्यादा
भूल गए हैं अपना वादा
खाते हैं भारत की कसमें
रहता कब है नेक इरादा
जाने किस दिन हो पायेगा भ्रष्टों का अवसान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
जाति-धर्म की आग लगाते
कैसे कैसे दाग लगाते
कितना मेरा कितना तेरा
मुर्दों के भी भाग लगाते
करते सबकुछ लेकिन देखो बन जाते अनजान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
हमको रोटी दाल न मिलती
ये तो सड़कें खा जातें हैं
गिट्टी-बालू-ईंटें-पत्थर
पूरा देश पचा जातें हैं
जितना लंबा पेट हुआ है उतनी बड़ी जुबान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान
■■■
हाय कमीशनखोरी देखो
कदम कदम पे चोरी देखो
चलते है फिर भी इतरा के
इनकी सीनाजोरी देखो
क्यूँ ऐसे लोगों को जनता दे देती वरदान-
नेता बड़े महान कि भइया नेता बड़े महान

– आकाश महेशपुरी

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 519

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share