Mar 8, 2019 · कविता
Reading time: 1 minute

जाग नारी जाग

चल काट दे अंधेरे को सुबह हो गई
तू महान शिरोमणि कहाँ सो गई

तू शेरनी है हिन्द की
सिंहनी दहाड़ कर
तू भोग की ना वस्तु
अपनी खुद पहचान कर

तू वीर है वीरांगनी
वीरता की तू धनी
तू कालजयी सावित्री है
तू धर्म में सनातनी

आये कहीं पहाड़ तो
पहाड़ को तू तोड़ दे
बाधा बने जो नदियां तो
तू उसके रुख को मोड़ दे

पर्वतों को पार कर
अपना खुद इतिहास रच
स्वप्न को साकार कर
चंडनी सी फिर से नच

तू दुर्गा का रूप है
दुर्गावती बन तू
लक्ष्मी सी विकराल बन
ह्यूरोज़ पर टूट तू

तू पदमनी का स्वाभिमान
स्वाभिमान तू अपना जान
मूर्ति सी अब ना बन
लौटा ला फिर से अपनी शान

– पर्वत सिंह राजपूत
(ग्राम-सतपोन )

5 Likes · 2 Comments · 143 Views
Copy link to share
Parvat Singh Rajput
11 Posts · 1.5k Views
You may also like: