.
Skip to content

जाग उठो चिंगारी बनकर,आग लगा दो पानी मे

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

कविता

March 27, 2017

जाग उठो चिगांरी बनकर,
आग लगा दो पानी मे|
क्यो जकड़े हो लचारी मे,
क्या कर रहे जवानी मेे||

नाग नहा रहे अनपड़ नेता,
क्यो जीते नादानी मे|
ब्याकुल बैठी सारी जनता,
लगे सरकार बनानी मे||

आजादी पा करके भी हम,
क्यो जकड़े है गुलामी मे|
जगो जगो जाग जाओ अब,
क्यो मरते खीचा तानी मे||

पुरखो ने थी जान गवाई,
भारत की आजादी मे|
तुम भी दे दो इक कुर्वानी,
मत जकड़ो इस गुलामी मे||

सरकार तो नाच नचावे
तुम क्यो मरो दिवानी मे|
क्यो जकड़े हो लचारी मे
क्यो मर रहे जवानी मे||
✍कृष्णकांत गुर्जर

Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303
Recommended Posts
माँ का दूध लजाते क्यो
क्यो जकड़े तुम लाचारी मे माँ का दूध लजाते क्यो| चैन से सोते अपने घरो मे खुशी के दीप जलाते क्यो|| खुशी खुशी सब खुशी... Read more
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
दर्द
दर्द दिया तो दवा क्यो दी है जलती आग को हवा क्यो दी है बात छिपाने को कहकर सबसे बता क्यो दी है किसी को... Read more