Skip to content

जागो कहाँ गुम हो बेटी

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

कविता

January 10, 2017

बहुधा लिखी गयी ‘बेटी’
लेकिन अवर्णित है ‘बेटी’
फिर से कलम की नोक पे है
काँटों की नोक पे जो बेटी

नभ छूकर आयी है ‘बेटी’
पर्वत चढ़ आयी है’बेटी’
सागर भी जिसने नापा है
वह करिश्माई है ‘बेटी’

देवी सम पूजी जाती जो
देश का मान बढ़ाती जो
चौखट अन्दर या बाहर हो
कर्मों से द्वार सजाती जो

एका नहीं पर इसमें है
वरना दम और किसमें है
ये जग सताये जो बेटी
पग रोंधी जाये जो बेटी

यह शायद अटपटा लगे
कुछ दिल को खटखटा लगे
कड़वा है पर एक सच भी
बेटी की दुश्मन है बेटी

बन बहु सताये वो बेटी
बन सास जलाये वो बेटी
भावज रूलाये वो बेटी
जो ननद सताये वो बेटी

जो मारी जाये वो बेटी
जो गला दबाये वो बेटी
जो है उकसाये वो बेटी
जो चुप रह जाये वो बेटी

जो दुष्ट जनाये वो बेटी
उसे न समझाये वो बेटी
रिश्ते उलझाये वो बेटी
जो सब सह जाये वो बेटी

आवाज उठाये न बेटी
मिलजुल कर आये न बेटी
जिस दिन भी जागेगी बेटी
ये धरा हिला देगी बेटी

तुम भी बेटी,मैं भी बेटी
आओ मिलकर हम सब बेटी
एक बुलन्द आवाज बनें
सिर्फ पंख नहीं परवाज़ बनें

सुनो एक हो जाओ तुम
दुष्टों को धूल चटाओ तुम
जब ऐसा वक्त आ जायेगा
फिर देखो कौन सतायेगा

सो रोना-धोना बंद करो
स्वहित का खुद प्रबंध करो
दिखादो कि तुम हो बेटी
जागो कहाँ गुम हो बेटी

हेमा तिवारी भट्ट

Share this:
Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you