31.5k Members 51.8k Posts

जागे न असुरारी

Jan 13, 2021 01:58 PM

अरे मै जागा जागा कै हारी ।अरे मैं जागा जागा कै हारी ।नहीं जागत है असुरारी ।कोन पीड़ा हरै हमारी।।जो सोवत पावँ पसारी।।अरे मैं जागा जागा कै हारी ।ऐसो सोवत है असुरारी अब रैन बीत गई है सारी। मैं बन कर आई थी नई नवेली दुलहन।कया जानू कया पहचानू कि ऐसा है साजन।तन मे आग लगा के सोवत दे पिछारी ।मैं जागा जागा कै हारी .नहीं जागत है असुरारी।।

1 Like · 7 Views
Phoolchandra Rajak
Phoolchandra Rajak
Ayodhya.nagar.bhopal.near.isro
46 Posts · 319 Views
Li.g.86.ayodhoya.nagar.bhopal.pin..462041.
You may also like: