ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफर

ज़िंदगी का रहा तल्ख़ सा ये सफरु
धूप में भी मिला कब जहां में शजर

दर्द कहते तो कहते किसे हम यहाँ
कर लिया हमने पत्थर का अपना जिगर

आँधियाँ जलजले क्या नहीं था सहा
रोज़ हम पर थे बरपे कहर पर कहर

हाथ की दो लकीरें न वश में रहें
एक किस्मत तो दूजी है अपनी उमर

मौज मस्ती में सब अपनी डूबे हुए
है किसे इस जहां में भी किसकी खबर

लिख दिया जो खुदा ने है उतना ही संग
कौन किसका रहा है सदा हमसफर

गिरगिटों की तरह रंग लेते बदल
पर न आया हमें दोस्तों ये हुनर

कट गयी उम्र हँसते हुए निर्मला
साथ मेरे था प्यारा मेरा हमसफ़र

10 Views
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी],...
You may also like: