.
Skip to content

*ज़बान*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

September 6, 2017

ज़बान का जो खरा नहीं है!
यकीन उसपे ज़रा नहीं है!!
::::::::::::::::::::
लगे असंभव उसे हराना!
वो आंधियों से डरा नहीं है!!
::::::::::::::::::::
समझ सके ना किसी की’ पीड़ा!
के’ ज़ख्म जिनका हरा नहीं है!!
::::::::::::::::::::
लहू हमारा लो’ पी रहा वो!
गुनाह से दिल भरा नहीं है!!
::::::::::::::::::::
रहे मुसाफ़िर सदा शिखर पे!
ज़मीर जिसका मरा नहीं है!!
::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
ज़बान पे कुछ और है दिल में है कुछ और
ज़बान पे कुछ और है दिल में है कुछ और जिस्म के दर्द और हैं दिल के हैं कुछ और ज़माने भर की बातें वो... Read more
*ज़िन्दगानी के मुसाफिर*
खुशबू को बिखराता जा इस जग को महकाता जा ज़िन्दगानी के मुसाफिर आगे कदम बढ़ाता जा *धर्मेन्द्र अरोड़ा*
गीत :- मैं एक मुसाफ़िर हूं
मैं एक मुसाफ़िर हूं दिल एक मुसाफ़िर है ना मेरी मंजिल है ना मेरा ठिकाना है मैं एक मुसाफ़िर हूं दिल एक मुसाफ़िर है जज़्बा... Read more
नवगीत
मुसाफिर ! देख समय की ओर मुसाफिर !देख समय की ओर .......... - गहरी नदिया दूर है जाना मुश्किल हैं दिल को समझाना लहरें करती... Read more