23.7k Members 50k Posts

जहाँ ले चलोगे वही मे चलूगा

जहाँ ले चलोगे वही मे चलूगा|
जहा तुम कहोगे वही मे रहूगा||

तुम्ही मेरी जान तुम्ही मेरी जन्नत हो|
तुम्ही मेरा प्यार तुम्ही मेरी चाहत हो ||

तेरे प्यार मे पागल मरता रहूगा|
जहाँ ले चलोगे वही मे चलूगा||

सुंदर सलोना तेरा प्यारा बदन है|
बागो मे प्यारे जैसे खिलता चमन है||

मिले जख्मो को मे कैसे सहूगा|
जहाँ ले चलोगे वही मे चलूगा ||

कृष्णा ये दुनिया की चाहत बुरी है|
अपनो को अपने ही मारे छुरी है||

तुम जो कहोगे मे वो करूगा|
जहाँ ले चलोगे वही मे चलूगा||

40 Views
कृष्णकांत गुर्जर
कृष्णकांत गुर्जर
211 Posts · 11k Views
संप्रति - शिक्षक संचालक -G.v.n.school dungriya लेखन विधा- लेख, मुक्तक, कविता,ग़ज़ल,दोहे, लोकगीत भाषा शैली -...