23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

==* जहाँ मैं खड़ा था *== (गजल)

नजारा नशीला जहाँ मैं खड़ा था
गवारा नही लौटना मैं खड़ा था

नदी सामने बेतहाशा हसीं थी
न मंजूर वो भापना मैं खड़ा था

जरासा डरा मैं तजुर्बा न कोई
पड़ा थंड में कांपना मैं खड़ा था

सहारा न कोई अकेली जवानी
बड़ी बेवफा यातना मैं खड़ा था

शशी ने बताये फसाने वहां के
बचा जो समा ताकना मैं खड़ा था
—————-//**–
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०

16 Views
SHASHIKANT SHANDILE
SHASHIKANT SHANDILE
Nagpur (Maharashtra)
36 Posts · 349 Views
It's just my words, that's it.
You may also like: