Skip to content

जहाँ में प्यार जो कर जाते हैं……………….

suresh sangwan

suresh sangwan

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

जहाँ में प्यार जो कर जाते हैं
पीकर दर्द संवर जाते हैं

ख़ाली ज़रा जब होते हैं हम
तेरी याद से भर जाते हैं

दरिया-ए-मोहब्बत ठहर ज़रा
हम तेरे साथ उतर जाते हैं

मैंने सुना है गिरने वाले
होश रहते भी गिर जाते हैं

कुछ इस तरह ज़िंदा हैं हम के
साँस लेते हैं मर जाते हैं

जब भी कभी होती है बारिश
आँसू आँख में भर जाते हैं

छलक जाते हैं पैमाने वो
जो लबों को छूकर जाते हैं

यूँ निकल गये आगे से मेरे
जैसे अंजान गुज़र जाते हैं

–सुरेश सांगवान’सरु’

Share this:
Author
suresh sangwan
Recommended for you