23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

जहर खिलाए आदमी तरकारी के नाम (दोहे)

करता जाता आदमी, ऐसे भी कुछ काम !
ज़हर खिलाता बेझिझक, तरकारी के नाम !!
…………………………..
इंजेक्शन से सब्जियां, पकती आज तमाम !
सरे आम बाजार में, बिकती ऊँचे दाम !!
………………………….
पड़े नहीं जब खेत में,.. गोबर वाला खाद !
कैसे दें फिर सब्जियां, वही पुराना स्वाद !!
……………………………
जहर हो रही सब्जियाँ, ..जनता है लाचार !
तंत्र निकम्मा हो गया,पनपा छल व्यापार !!
………..……………………………………
ऐसी हालत देख कर, शासन भी है मौन !
रही लेखनी चुप अगर, तो पूछेगा कौन !!
रमेश शर्मा

1 Comment · 24 Views
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
मुंबई
498 Posts · 32.5k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !...
You may also like: