जवानों की याद में

हम आहत हैं
सेना लहूलुहान
हे वीरो, मेरी लेखनी
करती तुझे सलाम ।

संकट की घड़ी में
देश साथ रहे
घरनी पर तेरे
ईश्वर का हाथ रहे ;

तेरे बलिदानों की बदला
तेरे साथी लेंगे
वे एक बार नही
कई बार लड़ेंगे ।

दुष्ट-दरिंदों की क्या गिनती
वे मानवता के दुश्मन है
बर्बाद कर देते हैं
जो खिलते चमन हैं ।

साहिल 😢☺️🎂

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like 1 Comment 0
Views 84

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing