जवानों की याद में

हम आहत हैं
सेना लहूलुहान
हे वीरो, मेरी लेखनी
करती तुझे सलाम ।

संकट की घड़ी में
देश साथ रहे
घरनी पर तेरे
ईश्वर का हाथ रहे ;

तेरे बलिदानों की बदला
तेरे साथी लेंगे
वे एक बार नही
कई बार लड़ेंगे ।

दुष्ट-दरिंदों की क्या गिनती
वे मानवता के दुश्मन है
बर्बाद कर देते हैं
जो खिलते चमन हैं ।

साहिल 😢☺️🎂

Like 1 Comment 0
Views 79

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing