Jun 7, 2016 · कविता

जल

धरा निर्जल
सूखा गंगा जल
प्यासा मन
दुःख भरा कल!!

3 Views
सुधा सिंह रिहन्द नगर, सोनभद्र संघर्षरत जीवन में कटू यथार्थ झेलते हुए मन जब कल्पनाओं...
You may also like: