23.7k Members 49.9k Posts

जल

जलदिवस आयोजन
प्रथम प्रयास

जल
ईश्वर ने जब दृष्टि रची तो
पंच तत्व विस्तार किया
पृथ्वी के तिहाई हिस्से पर
जल जीवन आधार दिया
करें यदि इतिहास अवलोकन
जल ने सभ्यता विकास किया
सिंधु नदी हो नील नदी हो
अमर संस्कृति प्रचार किया
जबसे मानव हुआ भौतिकवादी
उसने खुद और कुठाराघात किया
विकास आधुनिकता के नाम पर
प्रकृति सौंदर्य विनाश किया
स्वार्थ क्षणिक ने विवेक को मारा
जल संसाधन को विकार दिया
भूगर्भ जल स्तर निम्न हो गया
कुआं बाबड़ी तालाब नाश किया
मीठा जल खत्म हो गया
रासायनिक जब अत्याचार किया
अब हो गया आसमान मजबूर
उसने वर्षा में तेज़ाब गिरा दिया
हे मनुष्य हो गया तू विकृत
अपना भविष्य खराब किया
फैलाया विकास ने प्रदूषण
धन लोलुपता ने बंटाधार किया
भूल गया ईश्वर को प्राणी
जिसने सृष्टि निर्माण किया
कर्ता मानकर खुद को मानव ने
पतन अमन निश्चित है किया
अनावश्यक बाँध बनाकर
पर्वत नदियों पर अत्याचार किया
आज समस्या सुरसा बनी जब
तब जल दिवस आयोजन किया
समय अभी सम्भल जा प्राणी
जिन तकनीकों का विकास किया
वर्षा जल का करो संरक्षण
प्रदूषण जल प्रतिबंध किया
जहाँ प्यास से जीवन इति हुई है
उस शिक्षा तब प्रसार किया
हैं वाध्य बहुत् से खड्ड पीने पर
देर से पर विचार तो किया
आओ समझें अपनी गलती को
दे आयाम सुधार किया
करें संरक्षित अब जो जल थल पे
पहल यही भूल सुधार हुआ

डॉ प्रतिभा प्रकाश

7 Views
dr. pratibha prakash
dr. pratibha prakash
44 Posts · 2.8k Views
Dr.pratibha d/ sri vedprakash D.o.b.8june 1977,aliganj,etah,u.p. M.A.geo.Socio. Ph.d. geography.पिता से काव्य रूचि विरासत में प्राप्त...