.
Skip to content

जल दिवस

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 23, 2017

” जल दिवस ”
——————

बादलों के
पीछे से !
बिखेरने आया हूँ !
मैं भास्कर…….
अपनी रश्मि !
निथरे हुए जल पर !!
क्यों कि आज
“जल दिवस” है !
दिखता नहीं हैं
शायद !
मानव को…….
जल में छिपा जीवन ||
तभी तो
डाल रहा हूँ !
अपनी किरणें !
ताकि दिख सके
रजत-चमक
इस जल-जीवन की ||
क्यों कि ?
चारों ओर
चकाचौंध ही चकाचौंध है !
जिसका परिणाम यही है कि
मानव भी अब………
चकाचौंध सी रोशनी को ही
देख पाता है ||
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
जल
जलदिवस आयोजन प्रथम प्रयास जल ईश्वर ने जब दृष्टि रची तो पंच तत्व विस्तार किया पृथ्वी के तिहाई हिस्से पर जल जीवन आधार दिया करें... Read more
जल बिन सूना है संसार
जल जीवन का है आधार जल जग का करता उद्धार । जल सृष्टि का एक उपहार जल से भू पर बनी बहार । जल औषध... Read more
जल ही जीवन है
जल ही जीवन है, जल के बिना जीवन असंभव है। जल ही हमारी प्यास बुझाती , नहाने धोने के काम है आती। जल की ना... Read more
****जल ही जीवन*****हाइकु कविता****
हाइकु कविता जल सबका जीवनदाता  | बिन जल मानुष | जीवन न पाता | ***** जल ही जीवन **** *जल ही जल रत्नगर्भा है स्वर्ग... Read more