जय माँ शारदे ........ ------------------------- कलम तू ऐसे चल कि शब्दों की मर्यादा बनी रहे।

जय माँ शारदे ……..
————————-
कलम तू ऐसे चल कि शब्दों की मर्यादा बनी रहे।
रचे जब कोई रचना तो रचनाओं की मर्यादा बनी रहे।
ओ सरस्वती के शिष्य,रची तेरी रचना पढ़े जब कोई
माता के भक्त,तो माँ शारदे की मर्यादा बनी रहे।
@पूनम झा।कोटा,राजस्थान।

Like Comment 0
Views 453

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share