.
Skip to content

जय देवी***

Dinesh Sharma

Dinesh Sharma

कविता

October 3, 2016

देवी के मंदिर सर झुका कर
फल-फूल धुप बत्ती
वस्त्र श्रृंगार चढ़ा कर
भक्ति बखान
दण्डवत् नमन तेरा,
पत्थर की मूर्ति पर अपार श्रद्धा
हैरान भगवान भी
हैरान मैं भी
क्यों की तेरी टेड़ी नजर देखी,
मैंने भी और
उसने भी
मुझ जीती जागती देवी पर,
हैरान भगवान भी
हैरान मैं भी,
हैरान हर वो इंसान भी जो देखता है देवी उस पत्थर में भी
मुझ हाड़-मांस में भी,
मैं भी तो देवी हूँ
जीती जागती
मैं नारी हूँ।

****दिनेश शर्मा****

Author
Dinesh Sharma
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।
Recommended Posts
मैं जिंदा हूँ
मैं जिंदा हूँ क्योंकि मुझ में अभी साँस बाकि है, मैं जिंदा हूँ क्योंकि मुझ में अभी आश बाकी है, मैं जिंदा हूँ क्योंकि मुझ... Read more
मूर्तिकार
मूर्तिकार। बनाता हूँ मैं, भगवान की मूर्तियां सूंदर से सूंदर बने, कोशिश यही होती है मेरी। बड़े ध्यान से, बड़े चाव से, करता हूँ पूरी।... Read more
"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, मुझे... Read more
मैं और तुम
मैं तुझ से हूँ तु भी है मुझ से क्यूँ बीच लकीर खींच हम खड़े क्यूँ फिर रंजिश के दौर चले ज़रूरत है तुझे मेरी... Read more