Reading time: 1 minute

जमीं भी बोलती है साथ अंबर बोल उठता है

ज़मीं भी बोलती है साथ अंबर बोल उठता है
हमारी आगवानी को समंदर बोल उठता है

कोई भी साथ दे न दे मुसीबत में हमेशा ही
दुआओं का असर मां की ही बढ़कर बोल उठता है

बहुत ज़्यादा दिनों तक तो नहीं चलती मेरी अनबन
कभी मैं तो कभी वो ही तड़पकर बोल उठता है

कि जब हारा थका इक अन्नदाता हल चलाता है
गगन भी मुस्कुरा देता है बंज़र बोल उठता है

कभी मेहनत से कर्मों की हथौड़ी को चलाओ तो
लगन से बेजुबां बेजान पत्थर बोल उठता है

बताऊँ क्या भला ताक़त कलम की जान लो साहब
कलम चलती है तो गूँगा भी हँसकर बोल उठता है

सुकान्त तिवारी

46 Views
Copy link to share
Sukant Tiwari
4 Posts · 105 Views
You may also like: