.
Skip to content

जमना पुलिन आजु…

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

घनाक्षरी

August 20, 2017

?? घनाक्षरी ??

जमना पुलिन माहिं
आजु खड़े चन्द्रकांत
राह तकें राधिका की धीर नांहि धारते।

पूछ-पूछ गोप-ग्वाल
मुरली में देत ताल
स्वामिनी कौ नाम बेर-बेर हैं पुकारते।

आत लखीं राधिका जू
खिल रही चन्द्रिका सी
तन मन धन सिग कान्ह छवि वारते।

जाय रहे बलिहार
‘तेज’ करें मनुहार
फेर-फेर कनखीं सों राधिका निहारते।

उर गति लखि श्याम
लजि रहे कोटि काम
शोभा दिव्य लालजू की राधे बलिहार हैं।

मुरली सों टेर नाम
हर्ष रहे सुखधाम
‘तेज’ सों मिल्यौ है रूप दोउ सुखसार हैं।

लखि-लखि तिहुँलोक
अद्भुत अनूप छवि
ब्रजराज स्वामिनी जू निज सरकार हैं।

कोटि चन्द्र चन्द्रकांत
राधिका जू चन्द्रहास
भक्तन कूं खेंच-खेंच करें भवपार हैं।

??????????
?तेज मथुरा✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
अन्य
कलाधर छंद-लय -मनहरण घनाक्षरी नैन में लिए उजास, मन्द मन्द है सुहास, अंग अंग राधिका सुवास प्रीत घोलती। श्वांस श्वांस नाम श्याम, जाप ध्यान आठ... Read more
हाइकू
हुरियार हायकू.... ?????????? ब्रज की होरी बचै ना कोई कारी, ना कोई गोरी। नन्द कौ लाल भरि-भरि मारत, रंग-गुलाल। आज खेलत ब्रज में फाग हरी,... Read more
बात न पूछ
मेरे दिल की बात न पूछ, कैसे हैं हालात न पूछ। बिन तेरे गुजरे हैं कैसे, दिलबर दिन और रात न पूछ। छोड़ गया जब... Read more
श्राद्ध पक्ष
श्राद्ध पक्ष घनाक्षरी छंद कभी नहीं जाना हाल जरा ना किया ख्याल बीमारियां पिताजी को आती रहीं घेर घेर सेवा कार्य नहीं किया मौका देख... Read more