Skip to content

जब हम मुस्कुराने लगे

पूनम झा

पूनम झा

गज़ल/गीतिका

December 26, 2016

आज जब हम यूं ही गुनगुनाने लगे ।
बहारें भी साथ साथ मुस्कुराने लगे ।
*
विहंग का कलरव मन मोहित करता
उसके स्वर मधुर संगीत बनाने लगे।
*
गुल खिल रहे देखो गुलशन गुलशन
गुंजन कर रहे भ्रमर,गीत सुनाने लगे।
*
पंख फैलाये ये रंग बिरंगी तितलियाँ
मिलकर फूल से, खिलखिलाने लगे।
*
रश्मियां बिखेर रहे धरा पर भास्कर
प्रकाश से तम को देखो भगाने लगे।
*
खिलखिलाती नजर आती है दुनियां
हँसते रहो तो वो साथ निभाने लगे।
*
खुद से हंसते रहो “पूनम” दुखी मन
से तो हंसता हुआ जग भी रुलाने लगे।
@पूनम झा। कोटा, राजस्थान
#######################

Share this:
Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended for you