*जब बेटी बड़ी हो जाती है ...*

उछल कूद बंद हो जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

चंचलता पीछे छूट जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

हँसी भी नियमित हो जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

बोलने से पहले सोचने लग जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

हया गहना बन जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

गैर नजरों से डरने लग जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

भला बुरा सोचने लग जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

गति ठहराव बन जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

कोमल कली फूल बन जाती है ।
जब बेटी बड़ी हो जाती है ।।

Like 3 Comment 0
Views 307

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing