मुक्तक · Reading time: 1 minute

जब तुम्हारा अहंकार साथ छोड़ने लगे

1.

जब तुम्हारा अहंकार साथ छोड़ने लगे
जब तुम्हें ज्ञान रुपी पंख मिलने लगें
जब तुम अपने लक्ष्य के समीप जाने लगो
तुम समझना तुम्हारी प्रार्थना स्वीकार होने लगी है

2.

जब तुम अपराजेय महसूस करने लगो
जब तुम्हारा ज्ञान तुम्हें अलंकृत करने लगे
जब तुम उन्नयन मार्ग पर बढ़ने लगो
तुम महसूस करना तुम उस परमेश्वर की शरण में हो

1 Like · 2 Comments · 22 Views
Like
You may also like:
Loading...