.
Skip to content

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

गीत

August 27, 2016

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया
रह रह के दिल में ये सवाल आया
क्या सचमुच में तू अमानत है मेरी
या फिर यार ने हमे यूहीं बहलाया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

करता हुँ इल्तिजा वक़्त बे वक़्त
जाने क्यों तुझपे ये मेरा दिल आया
रोज़ भेजता हूँ संदेशे तेरे नाम के
लौट के अभी तक न तेरा जबाब आया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

सताती है याद बहुत मुझे मेरे यार की
हवाओ ने भी अब तो ये शोर मचाया
हुए चर्चे सरेआम ये अब तो फिर भी
क्यों न अभी तक उनको एतबार आया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

करने लगी है मजाक मुझ से अब तो
ये बारिश की बुँदे,ये मिटटी की खुशबु
कैसे बताऊ है मुहब्बत तुझ से कितनी
देता कोई सदा दूर से,लगे यार ने बुलाया
————————————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

डी.के. निवातियाँ ____________@@@

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
उनका फोन
बड़े दिनों बाद उन्हें मेरा ख्याल आया पूछने को उनका फोन मेरा हाल आया ठीक है कह देती तो ठीक था जख्मी दिल का हाल... Read more
हमें
सबक रोज ज़िन्दगी देती है हमें मिलती नहीं दोस्ती कहती है हमे जो मित्र दोस्त हमराही कहते रहे आज नज़र भर न देख पाते है... Read more
सबक
सबक रोज ज़िन्दगी देती है हमें मिलती नहीं दोस्ती कहती है हमे जो मित्र दोस्त हमराही कहते रहे आज नज़र भर न देख पाते है... Read more
आज फिर
आज फिर तनहाई में तुम्हे याद किया है । आज फिर दिल के बंधन को आजाद किया है । आज फिर ये हवाएँ तेरा पैगाम... Read more