.
Skip to content

जब काल आया सामने, तब समझा,सब अज्ञान था|

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

शेर

March 7, 2017

संसार में भटके बहुत,आनंदधन नाहीं मिला |
आया बुढ़ापा, ढल चला, मजबूत काया का किला|

रोते हो क्यों, पहले जगत् -मन ,ज्यादा शैतान था?
जब काल आया सामने, तब समझा, सब अज्ञान था |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए”एवं “कौंंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

काल=मृत्यु

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
आज कैसा सवाल आया है उन अमीरों पे काल आया है। नोट जिनके करीब हैं ज्यादा सीर उनके बवाल आया है।। भाऊराव महंत "भाऊ"
II...मैं आईने के सामने....II
पहले मैं था,जब, रब ने मिलाया आपसे l आईना था सामने,मैं आईने के सामने ll मैं हूं जाने कहां ,होश अब तक आया नहींl मौत... Read more
सच बोला तो बवाल हो गया
आज तो कुछ कमाल हो गया सच बोला तो बवाल हो गया सभी के सामने एक सवाल हो गया सब काम की मैने वाह दूसरो... Read more
होली की याद
होलि का त्यौहार हे आया सब के मन को भाया है। नये विचारो से रंगने का फिर से मौसम आया है।। कभी था गौबर कभी... Read more