जब उनसे मुलाकात होगी ।

यह रात तब मंज़र-ए-शब-ताब होगी
मुद्दतों बाद जब उनसे मुलाकात होगी ।

आसाँ नही है मेरे दिल को यूँ जीत जाना
आपमें कुछ तो जरूर बात होगी ।

मैं नही लिख सकता उन पर सिर्फ ग़ज़ल
उन पर लिखूंगा तो पूरी किताब होगी ।

ठान कर निकलोगे जब अपनी राहों पर
मंज़िल भी तुमसे मिलने को बेताब होगी ।

– चिंतन जैन

1 View
अपनी हार में भी जीता रहूंगा मैं हमेशा एक विजेता रहूंगा ।। Www.Instagram.com/chintan_uphar
You may also like: