जबान से लगी चोट कभी ठीक नहीं होती

आओ मेरी आवारगी में तुम भी शामिल हो जाओ,
पाप, पुण्य, सुख, दुःख की यहाँ सीख नहीं होती .

लड़ लो, झगड़ लो खूब, पीट लो अपनों को,
क्योंकि जबान से लगी चोट कभी ठीक नहीं होती .

हमने अठन्नी रुपया माँगा तो हिकारत ही मिली,
करोडों, अरबों का डोनेसन यहां भीख नहीं होती .

मेरा भविष्य, बच्चों का भविष्य अनेक पीढ़ी का,
सुनते हैं कि इस तरह की दौड़ ठीक नहीं होती .

कमाते, बचाते, चुराते हुए गुजरी है अब तक,
कहते हैं ऐसी जवानी में कोई रीढ़ नहीं होती .

मेरे कफ़न में एक थैली लगवाना जरूर यारों,
लोग सोचें, कहें बुरी कमाई ठीक नहीं होती .

वो देखता है, सुनता है, समझता है सब कुछ,
मगर चढ़ावे पे चढ़ावा से उसे खीझ नहीं होती .

बचाकर रक्खो इन आँखों का छलकता पानी,
ठगों की दुनिया है, सरलता यहाँ टीक नहीं होती.

प्रदीप तिवारी
9415381880

Like Comment 0
Views 166

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing