Skip to content

जबसे मुझे तुमसे प्यार हो गया

Sahib Khan

Sahib Khan

गज़ल/गीतिका

January 8, 2017

जबसे मुझे तुमसे प्यार हो गया,
रह-ए-दुनिया पे चलना दुस्वार हो गया,
यूँ तो बहुत से है काम मगर,
इश्क़ करना मेरा कारोबार हो गया,
बहुत है क़र्ज़ मुझपर सनम,
जबसे तेरा मुझपर उधार हो गया,
हो न हो ये क़सूर है तुम्हारा,
इश्क़ जो मुझपे सवार हो गया,
देख लेना कहीं मर न जाऊँ,
तेरे इश्क़ का मुझको बुखार हो गया,
आजाद परिंदा मैं , खुली परवाज थी मेरी,
तेरे हुस्न का अब मैं शिकार हो गया,
कैसे हासिल हो साहिल मेरी कश्ती को,
तेरी जुल्फों का पानी ही मजधार हो गया,
साहिब तू है ! तो काम हो जायेगा,
तेरे वादे का मुझे ऐतबार हो गया,

Author
Sahib Khan
Recommended Posts
मुझे तुमसे प्यार है बहुत
जानेमन मुझे तुमसे प्यार है बहुत, तेरे बिन दिल ये बेकरार है बहुत. ख़फा न हो तुम मुझसे मेरी नाजनीं, तेरे आने से ये दिल... Read more
इश्क है तुमसे
Kajal Soni शेर Jan 27, 2017
बेशक मुझे इश्क है तुमसे, मगर मेरी जां तुम मिल न सकोगी मुझसे । जिंदगी भी है कश्मोकस में, है फासला जो तेरे मेरे दरमियान,... Read more
तेरे इश्क में जिये जा रहा हूँ
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ ----------------------++++++ तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ, दुश्मनों के खंजर सहे जा रहा हूँ, तेरा... Read more
देखा जबसे तुझे //गीत
देखा जबसे तुझे दीवाना हो गया चाहा जबसे तुझे तेरा हो गया ... पल-पल तुम्हें याद करने लगा हूँ तेरे नाम की माला जपने लगा... Read more