.
Skip to content

जन्म जन्म से तुम्हारा है इंतज़ार मुझे

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

December 15, 2016

जनम-जनम से तुम्हारा है इंतज़ार मुझे
चले भी आओ कराओ जरा दीदार मुझे

उजड़ गया है मेरे इश्क़ का चमन लोगो !
मन मुआफ़िक़ नहीं लगती है अब बहार मुझे

रोज़ अल्फ़ाज़ के खंज़र न चला सीने पर
है गुज़ारिश कि यूं किश्तों में न तू मार मुझे

तेरे पहलू में रहूँ , तुझको रखूँ पहलू में
तेरे साँसों की है खुश्बू से सरोकार मुझे

किस तरह तुमको यकीं आज दिलाये “बबिता ”
सिर्फ़ तुमसे है फक़त प्यार बेशुमार मुझे

बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले
माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले फिर मेरी जिंदगी को किनारा मिले १ जिंदगी भी मुझे दर्द देती रही माँ तेरी गोद का अब... Read more
मुझे अच्छी लगती है।
???? तेरी मीठी -मीठी बातें मुझे अच्छी लगती है। तेरी तारीफों की बरसातें मुझे अच्छी लगती है। तेरे संग बीते दिन- रातें मुझे अच्छी लगती... Read more
जन्म लेती रहें बेटियां...
मुझे अच्छी लगती है दूसरे या तीसरे नंबर की वे बेटियां जो बेटों के इंतजार में जन्म लेती है.... और जाने कितने बेटों को पीछे... Read more
माँ मुझे संसार दिखाओ
RASHMI SHUKLA लेख Mar 2, 2017
बेटी कहती है माँ से क्यों सबकी सुना करती हो, मुझे क्यों सबके कहने से भुला देती हो, मुझे भी सबके बीच बुलाओ, माँ मुझे... Read more