.
Skip to content

जन्माष्टमी दोहे : उत्कर्ष

नवीन श्रोत्रिय

नवीन श्रोत्रिय "उत्कर्ष"

दोहे

August 23, 2016

कृष्णपक्ष कृष्णाष्टमी,कृष्ण रूप अवतार ।
हुए अवतरित सृष्टि पे,जग के पालनहार ।।

जन्म हुआ था जेल में,भादो की थी रात ।
द्वारपाल सब सो गए,देख अनोखी बात ।।

✍?नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”©
★ ★ ★ ★ ★

Author
नवीन श्रोत्रिय
नाम - नवीन शर्मा श्रोत्रिय उपनाम - उत्कर्ष जन्म - 10 मई 1991 शिक्षा - स्नातकोत्तर स्थान - बयाना(भरतपुर)राज• पिन - 321401
Recommended Posts
नववर्ष २०१७
सलाम करते हम सभी, तुझको ओ नववर्ष। सतरह तेरे राज्य में, सबका हो उतकर्ष। सबका हो उतकर्ष , न हो कोई भी ग़ुलाम। यूँ ना... Read more
दोहे की दो पंक्तियाँ
दोहे की दो पंक्तियाँ, .रखतीं हैं वह भाव । हो जाए पढ कर जिसे,पत्थर मे भी घाव!! दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार! फीकी... Read more
उत्कर्ष
खेल खेल में हंसते-गाते ज्ञान के दीप जलाएंगे उत्कर्ष हमारा नाम है​ हम देश का मान बढ़ाएंगे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का सपना हम साकार करेंगे नाश... Read more
वो तीन दोहे।
वो तीन दोहे-- रहे सजगता कर्म में ,,,,,भाव रहे निष्काम ।। रिस्तो में खुशियाँ रहे, जीवन के आयाम ।। लोभ क्षोभ मद मोह को,,, करने... Read more