Sep 9, 2016 · लघु कथा
Reading time: 1 minute

जनता जागरूक नहीं है

विक्रमादित्य ने वेताल को पेड़ से उतार कर कंधे पर लादा और चल पड़ा। वेताल ने कहा- ‘राजा तुम बहुत बुद्धिमान् हो। व्यर्थ में बात नहीं करते। जब भी बोलते हो सार्थक बोलते हो। मैं तुम्हें देश के आज के हालात पर एक कहानी सुनाता हूँ।
विक्रमादित्य ने हुँकार भरी।
वेताल बोला- ‘देश भ्रष्टाचार के गर्त में जा रहा है। भ्रष्टाचार की परत दर परत खुल रही हैं बोफोर्स सौदा,चारा घोटाला, मंत्रियों द्वारा अपने पारिवारिक सदस्यों के नाम जमीनों की खरीद फरोख्त , राम मंदिर-बाबरी मस्जिद की वोट बैंकिंग राजनीति, संसद–विधानसभा में कुश्तम-पैजार, आरक्षण की बंदरबााँँट, न्यायाधीशों पर उठती उँगलियाँ, महँगाई-जनसंख्या पर नियंत्रण खोती सरकार, धराशायी हरित क्रांति, बापू के मायूस तीन बंदर, विदेशी कंपनियों द्वारा भारतीय बाजार हड़पने के नये-नये प्रलोभन, 2जी स्पेूक्ट्रम घोटाला, हिंदी भाषा-हिंदी साहित्याकारों का दर्द, दिन पे दिन बढ़ती जा रही आपराधिक प्रवृत्तियाँ, स्टिंग ऑपरेशंस, विदेशी बैंकों में भारतीयों की जमा करोड़ों की अघोषित दौलत, कबूतरबाजी, आतंकवाद, बम कांड, पुलिस की मजबूरी, बढ़ता गुण्डाराज, ऐसा है हमारा देश। आखिर इसका कारण क्या है राजा? यदि तुमने इसका सही जवाब नहीं दिया तो तुम्हाैरे टुकड़े-टुकड़े हो जायेंगे।’
विक्रमादित्यै ने जवाब दिया- ‘जनता जागरूक नहीं है!!’ राजा कह कर चुप हो गये। थोड़ी देर शांति छाई रही।
वेताल ने अट्टहास किया और बोला- ‘राजा तुम बहुत चतुर हो। एक ही बात में सबका जवाब दे दिया। मैं च–ला–।’ विक्रमादित्यय सम्हलते उसके पहले ही वेताल छूट भागा और पेड़ पर लटक गया।

27 Views
Copy link to share
Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
76 Posts · 4.5k Views
Follow 2 Followers
1970 से साहित्‍य सेवा में संलग्‍न। अब तक 14 संकलन, 6 कृतियाँँ (नाटक, काव्‍य, लघुकथा,... View full profile
You may also like: